आपका हार्दिक स्वागत है
अनुभूति गुप्ता

उलझन जीवन का

उलझन जीवन का अद्भुत किस्सा है आँखों में दुःख का अपना हिस्सा है,  कौन कहता है – मुबारक हो तुम्हें…

add comment
अनुभूति गुप्ता

जीना शराब सा..

लगे कुछ कुछ खराब सा अब गिरे, तब गिरे, पिए तो भी ग़म से घिरे, बेशकीमती है नजर जिसकी, हर…

add comment