आपका हार्दिक स्वागत है
जयंती

समर्पण

एक सीप, पा समंदर को मचल उठी; इतरा उठी पा गई वह शांति सागर की उत्तुंग लहरों में खुद को…

add comment