आपका हार्दिक स्वागत है
डॉ. वेद मित्र शुक्ल

हिंदी लोकतांत्रिक एवं समन्वयकारी भाषा: रामदरश मिश्र

पुस्तक ‘जारी अपना सफ़र रहा’ का लोकार्पण हुआ अप्रैल 7, 2019. वरिष्ठ साहित्यकार रामदरश मिश्र के आवास पर हिंदी अकादमी…

add comment
डॉ. वेद मित्र शुक्ल

दो ग़ज़लें

1. दामन नहीं भिगोया होगा, पर, अन्दर से रोया होगा। पहुँचे आज बुलंदी पर जो, सोचो क्या-क्या खोया होगा। आज…

4 comments