आपका हार्दिक स्वागत है
संतोष त्रिवेदी

लात का साहित्यिक महत्व!

आलोचक-प्रभु प्रस्तर-पीठिका पर विराजमान थे। हमें देखते ही उन्होंने अपना दाहिना हाथ शून्य की ओर उठाया। मानो वे हमारी जड़ता…

add comment
गिरीश पंकज

टिकट पक्का हो गया

चुनाव का समय था। प्रत्याशियों  के चयन की प्रक्रिया चल रही थी। कुछ ‘करछुल’ हाईकमान के पास पहुंचे और तर्क…

add comment
संतोष त्रिवेदी

टिकट-कटे की पीर!

उनका टिकट फिर कट गया। इस बार पूरी उम्मीद थी कि जनता की सेवा करने का टिकट उन्हें ही मिलेगा।…

add comment