आपका हार्दिक स्वागत है

दो कविताएँ

पुरानी किताब आज एकाएक दिमाग में कौंध गई वही पुरानी किताब जिसे देखकर और पढ़कर चमक उठता था चेहरा शायद…

add comment