आपका हार्दिक स्वागत है

गरिमा सक्सेना के चार नवगीत

१) रंग सारे उड़ गये शायद हवा में जिंदगी फिर श्वेत श्यामल हो गई है राह अब कैसे मिले घनघोर…

add comment