आपका हार्दिक स्वागत है

कविता—अश्रुरंजित अस्मिता

हुआ द्रौपदी का हरण चीर है, फिर भी धर्म परम वीर है। सत्ता के द्युत में भी जब धर्म निहित…

6 comments