आपका हार्दिक स्वागत है

चार कविताएं

■ मैं जीना चाहती थी तुम्हें मैं जीना चाहती थी तुम्हें मैं तुम्हारे उघड़े सीने की भीत पर लिखना चाहती…

add comment