आपका हार्दिक स्वागत है

मोहन राणा की पॉंच कविताएँ

(1.) कि पहचान लूँ उसे नया भी था इसी तरह वह बिका कहीं और हमेशा ख़रीदारों के बीच शानदार दुकानों…

1 comment