आपका हार्दिक स्वागत है

तीन कविताएँ—स्मृति, नायिका एवं संगति

स्मृति  भ्रमरों की स्मृति में है फूलों का अकूत सौंदर्य पहाड़ों का विशालकाय इतिहास है नदियों की स्मृति में…  …

add comment