आपका हार्दिक स्वागत है

दो कविताएँ

■ तुम तोड़ दो तुम तोड़ दो प्रेम में अभिभूत झूमते वृक्ष की सब टहनियां मैं भी रोक देती हूँ प्रेमिल…

4 comments