आपका हार्दिक स्वागत है

कहानी—तेतर

तेतर दास को मैं बचपन से ही देख रहा था. कभी नदी किनारे की गाछी (बाग) में आम तोड़ते हुए…

add comment