आपका हार्दिक स्वागत है

विभव भूषण की चार ग़ज़लें

1. क्यों ये सूखे हुए पत्ते मुझी से लगते हैं पाँव की ज़ेर, खरकती जमीं से लगते हैं वो इशारे,…

1 comment