आपका हार्दिक स्वागत है
पंकज कुमार

तुम ऐसी कैसे हो सकती हो?

तुम कल भी माँ थी किसी की, किसी की थी बहन, बेटी और पत्नी और आज भी हो पूजता आ…

8 comments