आपका हार्दिक स्वागत है

कविता—तुम एक बार आना…

कभी तो जरूर आना… जैसे पलाश के फूल आते हैं बसन्त आने पर जैसे गुलमोहर खिलता है पतझड़ जाने पर…

add comment