आपका हार्दिक स्वागत है

कविता—किताबें

मैंने ईमान की तरह बरती किताबें किताबें ही मेरी संगी रही, मैंने किताबों से प्यार किया। जीवन के घनघोर नैराश्य…

3 comments