आपका हार्दिक स्वागत है

दस मुक्तक

1. रेत के तपते शहर में ख़्वाब झुलस जाते हैं रोशनी के थपेड़ों में, रात सिसकती रही। 2. तहस नहस…

add comment