आपका हार्दिक स्वागत है

पांच कविताएँ

1. खिलौने अनजाने में भी जब टूट जाते हैं बच्चों से वो रो पड़ते हैं— बिलख पड़ते हैं, वो बड़े…

add comment