आपका हार्दिक स्वागत है

चार कविताएँ

■  तितली जब उड़ी सूने हथेली पे रेगिस्तान ने विस्तार लिया। वीरानों ने पाओ पसारे। अंधड़ों ने रेखाओं को मनचाहा…

1 comment