आपका हार्दिक स्वागत है

राम किंकर की पाँच कविताएँ

(1) जानकी वो जो करुणानिधान कहलाते हैं… अन्तस में जिन्हें… शिव पाते हैं…! जिनके चरणों की महिमा को… वेद पुराण…

4 comments