आपका हार्दिक स्वागत है

नरेश गुर्जर की छह कविताएँ

(1) सुनो सुनो… चुप न रहो मेरी बात के हाथ पर अपनी हथेली रख दो और छू लेने के सुख…

3 comments