आपका हार्दिक स्वागत है

उल्लास पाण्डेय की चार कविताएँ

1. वह चेहरा नहीं! मुझे अब देखने दो आँखों में आँखें डालकर इस एकाकीपन को मुझे देखने दो कि मैं…

2 comments