आपका हार्दिक स्वागत है

कल्याणी की चार कविताएँ

धूप का कतरा रेशा रेशा पिघलती हूं मैं तेरे नशे में, मानो एक कतरा धूप का मिला, बरसों के अंधेरे…

34 comments