आपका हार्दिक स्वागत है

शालिनी मोहन की दस कविताएँ

(1.) मौन मौन सघन वन में अनाम वनस्पति होता है शब्द न ओस बनते हैं न फूल (2.) टेढ़ी-मेढ़ी लकीरें…

add comment