आपका हार्दिक स्वागत है

वंदना वात्स्यायन की दो कविताएँ

गंगा की कल-कल धारा कहती तू रूक जा रे मैं कहती गंगा तू बहती जा रे। तट है, तेरा बड़ा…

4 comments