आपका हार्दिक स्वागत है

कल्पना सिंह की तीन कविताएं

सर्दियों की धूप चाय के प्याले में गुनगुनी धूप बचपन का आंगन। महीन धागों सी उठती भाप की लकीरें उड़ाती…

1 comment