आपका हार्दिक स्वागत है
निर्मल वर्मा

धर्म और धर्मनिरपेक्षता

स्वतंत्रता के 50 वर्ष बाद यदि हमें धर्मनिरपेक्षता के अर्थ के बारे में आशय स्पष्‍ट है तो अवश्य ही धर्म…

add comment
डॉ. पंकज कर्ण

‘मेघ इन्‍द्रनील’ : मिथिलांचल की संस्‍कृति का विस्‍तार

डॉ. शांति सुमन गीत चेतना की महत्त्वपूर्ण कवयित्री के रूप में कई दशकों से चर्चित हैं। वे ‘ओ प्रतीक्षित’, ‘परछाई…

1 comment
रणजीत कुमार सिन्हा

व्यंग्य और सामाजिक यथार्थ

व्यंग्य का हिंदी साहित्य में प्रचलन काव्य के क्षेत्र में कबीर से होता है। कबीर हिंदी काव्य साहित्य में व्यंग्य…

add comment
संजीव सिन्‍हा

यश पब्‍लिकेशन और साहित्‍यिकी डॉट कॉम के तत्त्वावधान में प्रतियोगिता

कलम की कसौटी प्रतियोगिता-4 का नियम/विवरण 1- दिए गए विषय व विधा पर आधारित अपनी रचना 1000-1500 शब्दों में, 1…

add comment
डॉ. अल्पना सिंह

भाषा पर हावी क्षेत्रीयता का ऐतिहासिक सच

भारत एक बहु भाषा-भाषी देश है जहाँ चार सौ से भी अधिक भाषाएँ बोली जाती है लेकिन सबसे ज्यादा बोली…

add comment
सतीश सिंह

गजलें

1) जिंदगी को खुशी और गम दे गया मुश्किलों में जीने का हुनर दे गया  मेरी जिंदगी की गुरबतें ले…

add comment
प्रीति राघव

चहलकदमी

मन के अरण्य मेंभावनाओं की ओस से भीगी कुशा परनंगे पैर घूमना ठीक, इसी प्रकार हैतुम्हारे प्रेम में मेरे मन का होनानम…

1 comment
अनुभूति गुप्ता

जीना शराब सा..

लगे कुछ कुछ खराब सा अब गिरे, तब गिरे, पिए तो भी ग़म से घिरे, बेशकीमती है नजर जिसकी, हर…

add comment
संजीव सिन्‍हा

देश भर के 400 से अधिक साहित्‍यकारों ने दिया नरेन्‍द्र मोदी को अपना समर्थन

भारतीय साहित्‍यकार संगठन की पहल पर भारतीय भाषाओं के 400 से अधिक साहित्‍यकारों ने लोकसभा चुनाव को लेकर देश के…

add comment
डॉ. आलोक कुमार सिंह

विराट अनुभवों की महागाथा : पारिजात

नासिरा शर्मा साहित्य जगत का ऐसा नाम है जो साहित्य जगत में अपने बेबाक लेखन के लिए जानी जाती हैं।…

add comment